मेरे मन की बस यही भाषा है

अंग्रेज़ी मीडियम में पढ़ा ज़रूर है पर सोचा तो हमेशा हिंदी में है,हर सोच, हर सपना, हर उम्मीद, हर खुशी, हर अनुभव, को हिंदी में जिया है, भाषा वो होती है जिसमें हम खुद से अनगिनत बातें करते हैं बिना किसी प्रयत्न को करे, हिन्दी को व्याकरण में बांधने वाले त्रुटियों को देखने वाले शायद […]

कुछ इस तरह

कुछ इस तरह मुझसे रोज़ मिलने आती है ज़िंदगी, कि इम्तिहान देकर खाली परचा वापिस चाहती है ज़िंदगी, ज़िद हमारी भी फिर कहां कुछ कम रही, हर शाम सब पन्ने भरकर पर्चे के थमा देते हैं उसे ,ये लो ज़िंदगी, और फिर सारी रात मेरे लिए नया इम्तिहान सोचती है ज़िंदगी, सिलसिला चलाए रखती है […]

World photography Day

अगर आप लिखना पसंद नहीं करते तो तस्वीरें लेते रहिए, मुड़ के जब कभी देखेंगे तो खुश होंगे ये देखकर की आपके जीवन में और जीवन के पल कैसे जुड़े थे, कैसे बारिशों से आप अलग अलग जगह,अलग अलग रूप में मिले थे, कैसे आसमां को आपने निहारा था,कैसे खुद को ही आपने प्रेम से […]

स्वतंत्रता दिवस की बधाई

स्वतंत्र भारत में हम जी रहे हैं और उम्मीद है की सच और साहस से अपनी राहों पर चले हुए हैं,बस इतना ही काफी है देश को और उन्नत करने को… सभी देशवासियों को स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक बधाई Wishing everyone a very happy independence day 🇮🇳🎉 जय हिंद ❤️

आशायें

वो बच्चे जिनके लिए आज के युवा सपनों और उनको पाने की नई राह बना रहे हैं ,वो बच्चे खुशकिस्मत हैं उन्हें लगन और मेहनत के नए मायने नज़र आ रहे हैं …🇮🇳 Much proud of each and every athlete more bcs they inspire the kids of our Nation to new dreams ❤️

सावन ❤️

ज़िंदगी वो नही है जिसकी झलक हम दिखाते हैं, जिंदगी वो एहसास है जिसे हम साझा करते हैं, पर्वतों यां समंदर की बात नही है , महफिलों और दावतों की भी कहानी नही है, दुश्वारियों और कठिनाइयों से भरे सभी के जीवन में अब भी दो पल की गुंजाइश कहीं खोई नही है, जिंदगी उसी […]

ज़रूरी तो नही !

साझा करने में जो सुख है,उसे पसंद नापसंद के तराज़ू में रख देने में बस दुख है,साझा कर सकते हैं,हवाओं की तरह बह सकते हैं …. हवायें नही जांचती अपनी पहुंच को ❤️,…… मन के एहसासों की बना के नाव, नदी में उतरते हैं जैसे दूर जाना हो किसी गांव, ये जाने की जो ललक […]

गरम हवा

गरम हवा जैसे जैसे नज़दीक आ रही थी, यूं लग रहा था जैसे जान सी जा रही थी, मैंने देखा थोड़ा सा और चलके वो जो टीन वाले घर थे, उनमें झांका ज़रा घबराके, वहां जिंदगी फिर भी मुस्कुरा रही थी, गर्मी से वहां मेरी आंखे तो जली जा रही थी , मगर खुशी जैसे […]

गुलाबी

वो सूर्य जिसे पहाड़ों पे मैंने सांझ में हमेशा पकड़ा था,जिसकी गुलाबी रोशनी को हिमालय को चमकाते हमेशा देखा था, वो सूर्य जिसे देवदारों में मैं कहीं लुका छिपी खेलते छोड़ आई थी, ढलते सूर्य से अपने प्रेम को मैं हवाओं में घोल आई थी, वर्तमान में उसको ढूंढ ढूंढ कर मेरी उम्मीद टूटने को […]

मां

मां जब दूर होती है तो जैसे जीवन हर ऋतु से गुज़रता हुआ भी उस शीतल पवन से दूर लगता है,जो जब पास आती है तो हर दुख को सुख कर जाती है, मां से दूरी , मां से दूर जीवन अधूरा लगता है, वो राह जो मां तक जाती है उस राह पे जाने […]